Home » » VADH BACHEY BACHE PUNJAB part 1 (Devnagari)

VADH BACHEY BACHE PUNJAB part 1 (Devnagari)

 VADH BACHEY BACHE PUNJAB ( More Babies: Save Punjab) 

IN DEVNAGRI SCRIPT

(Part -I)

Growth rate of population of Punjabis is alarmingly low as compared to other states. According to a principle of demography a nation whose annual growth rate falls below 2.1% will vanish from the world map. Unfortunately the rate of Punjabis is 0.9% according to the 2011 census. Also as a result of low birth rate of Punjabis migrations are fast taking place to Punjab. If the trend continues Punjabis will become a minority in their home within 20 years.  The other harmful impact of the bhaiyya migration is that they insist on the preservation of their language and prefer to speak in Hindi while in Punjab. Which means Punjab's culture is also threatened. The book VADH BACHEY BACHE PUNJAB (in Devnagari) deals with this serious issue from different aspects.
The book is also available online in Devnagari (Hindi) script.)
The book in Punjabi deals with the following
• To sustain a population annual growth rate of 2.1% essential but Punjabis grow with 1% only
• Sikh population %age in Punjab goes down by 6% in 20 years
• No. of Punjabis babies dangerously low
• Downfall of Punjabis imminent
• In 30 years Bhaiyyas will be rulers of Punjab
• What r the reasons of this low growth rate?
• What punishments nature awarded to Punjabis?
It answers the .... s following questions:-
• Quantity or quality?( What is the use of producing herds?)
• Where r the jobs?
• Where is the food?
• Our land holding poor, how can we afford more children?
• It is too much inflation (mehgai)
• What is wrong if Bhaiyya becomes CM of Punjab when Ujjal Dosanjh can become Premier of British Columbia?
• Like this there r about 30 questions dealt in the book.
If u have sympathy with Punjabi people please help me circulate this book in 40 pages priced at Rs. 5 (five only)

ਜਿਹੜੇ ਸੱਜਣ ਗੁਰਮੁਖੀ ਵਿਚ ਪੰਜਾਬੀ ਨਹੀ ਪੜ੍ਹ ਸਕਦੇ ਓਨਾਂ ਲਈ ਪੇਸ਼ ਹੈ ਦੇਵਨਾਗਰੀ ਲਿਪੀ ਵਿਚ ਬੋਲੀ ਪੰਜਾਬੀ ਹੀ ਰਹੇਗੀ। ਜਿਹੜੇ ਪੰਜਾਬੀ ਜਾਣਦੇ ਹੋ ਤੁਸੀ ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਹੀ ਪੜੋ ਜੀ ਹੇਠ ਲਿਖੇ ਲਿੰਕ ਤੇ ।

http://www.punjabmonitor.com/2013/05/bachey-bache-punjab-1-more-babies-save.html


वद्ध बच्चे, बचे पंजाब
PART -1

पंजाबियां दा पतन सपश्शट नजर आ  रेहा है

अबादी-असूल मुताबिक जे किसे कौम विच सलाना वाधा दर 2.1% तों घट्ट जावे तां ओह कौम खातमे वल ठल्ल पैदी है। सिक्खां दा वाधा दर 1971 तों 1991 तक 2.5 रेहा है। पर 2001 दी मरदम शुमारी अनुसार इह डिग के 1.4% ते पहुंच ग्या। ऐतका 2011 दी गणना ते वाधा दर होर थल्ले डिग के अन्दाजन 1% सलाना ते पहुंच चुक्का है।सपश्शट है  बाकी कौमां दे मुकाबले पंजाबियां दे बच्चे घट्ट पैदा हो रहे हन।होर देखो च सिक्ख पंजाब विच 63% सन पर 2001 विच 60% हो गए।2011 विच इह अनुपात होर वी 2-3% थल्ले आ  ग्या है।1981 विच सिक्ख भारत दी अबादी दा कुल 2.00% सन, 1991 विच 1.94 हो गए तां 2001 विच होर घटके 1.90 रह गए। इहनां रुझानां दा मतलब है 30 सालां बाद सिक्ख पंजाब च घट्ट गिणती च हो जाणगे ते 50 कु सालां विच खुद्द पंजाबी ही पंजाब च घट्ट गिणती च होणगे ते पंजाब च राज बइ्हियां दा हो जावेगा। इह सभ कुझ नंगा होन दे बावजूद सरकार चुप्प बैठी है जिस तों सपश्शट है कि पंजाबियां ते खास करके सिक्खां दी सरकार नूं कोयी चिंता नही। सरकार दा फरज बणदा सी कि तुरंत पंजाबी अबादी बारे आपनी नीती बदलदी। पर अज्ज वी जनम रोकन ते प्रवार अयोजन ते जोर दिता जा रेहा है।फंधठ कनून्न बनन दे बावजूद गरभपात चोरी छुप्पे जोरां ते हन।सरकार इस ते चुप्प है।
पंजाब विच बच्यां दी पैदायस घटन दे मुख कारन बणदे हन सरकारी प्रापेगंडा जिस दा खास निशाना पंजाबी लोक सन अते पंजाबियां विच नासतकवाद दा पैदा होया रुझान। क्युकि रब्ब दी डांग बेअवाज़ हुन्दी है जिस दा नतीजा इह निकल्या है कि पंजाबी मानसिक ते सरीरक पक्खों वी जांदे रहे हन ते पंजाब विच हो रहियां कुल मौतां 'चो मुक्ख कारन बलड्ड प्रैशर जेहे रोग बण रहे हन, जिनां दी जड़्ह नासतकवाद विच है। इन्हां हालातां दे मद्दे नजर असी पंजाबियां नूं अपील करदे हां कि कुदरत दे कंम विच दखलअन्दाज़ी देनी बन्द करन ते बच्चा पैदा होन देन। इस लेख विच तुसी पंजाबियां दे गरकन दे कारन पड़ोगे ते सरकारां दियां साजशां ते गुमराहकुन्न प्रापेगंडे जिवे कि “अबादी वधन नाल जी बेरुजगारी वधदी है ते अनाज किथों आवेगा” आदि बेनकाब हुन्दे देखोगे।  फिर पड़ोगे बच्चा पालन दे की फायदे हन। पर नाल ही असी सुचेत कर दईए कि फिकरमन्द होन दी वी कोयी लोड़ नही क्युकि पंजाबी नेक सलाह ते बड़ीछेती ही अमल कर लैंदे हन सो सिरफ जरूरत है इनां नूं सुचेत करन दी। बाकी इह सभ सांभ लैणगे।
  
page 6
हर 10 साल बाअद मरदम शुमारी हुन्दी है। 1991 दी जनगणना अनुसार पंजाब विच 63% सिक्ख सन। दस साल बाअद 2001 विच जा के सिक्ख सिरफ 60% रह गए। हुन 2011 दी मरदम शुमारी मुताबिक तां सिक्खां दा लक्क ही टुट्ट ग्या है।मरदम शुमारी दे धरम पक्खी अंकड़े तां अजे जारी नही  होए पर पंजाब दी कुल गिणती आ  चुक्की है जो दसदी है कि पंजाबी सिरफ 13.73% वधे हन। इस तों सपश्शट है कि सिक्खां दा वाधा तां होर वी थल्ले पहुंच ग्या होना ते रुझाना दे मद्दे नजर, अन्दाजा है कि पंजाब विच हुन सिक्ख 57% तो वी घट्ट हो गए हन। किसे कौम दा 20 सालां विच 6% निसबत घट्ट हो जान दा मतलब है कि कौम छेती ही पंजाब दे नकशे तों गायब हो जाएगी।
होर देखो, अबादी-असूल मुताबिक जे किसे कौम विच सलाना वाधा दर 2.1% तों घट्ट जावे तां ओह कौम खातमे वल ठल्ल पैदी है। सो अबादी नूं बकरार रक्खन वासते घट्टो घट्ट इह दर जरूरी है। उंज सिक्खां दा वाधा दर 1971 तों 1991 तक 2.5 रेहा है।2001-मरदम शुमारी अनुसार इह डिग के 1.4% ते पहुंच ग्या। ऐतका 2011 दी गणना ते वाधा दर होर थल्ले डिग के अन्दाजन 1% सलाना ते पहुंच चुक्का है।

वद्धन दर सारे पंजाबियां दा घट्ट रेहा है

1981 विच सिक्ख भारत दी अबादी दा कुल 2.00% सन, 1991 विच घट के 1.94 हो गए तां 2001 विच होर घटके 1.90 रह गए। 2011 दे अंकड़े होर वी निवान वल इशारा कर रहे हन क्युेकि पंजाब दा वाधा दर पिछे नालो बहुत घट ग्या है। 2001 विच 20.10 ते 2011 विच 13.73%. सिक्खां दा पंजाब विच वाधा दर 1991 विच 25.18 सी जो 2001 विच घट के सिधा ही 14.19 दे पहुंच गिऐ जदो कि 2011 विच तां होर वी थल्ले चला ग्या है क्युकि खुद्द पंजाब दा वाधा दर ही घट के 13.73% रह ग्या है।
2001 मरदम शुमारी दे अंकड़े जदो ऐलाने गए ओदो वी सिक्ख हिरदे तड़फ उठे सी कि क्युकि सिक्खां दी वधन दर 24.32% तो घट्ट के 18.2% रह गई सी। जदो कि मुसलमानां दी वधन दर 36%, हिन्दूआं दी 20.4%, अते ईसायी 22.6% सी।
पहली गल तां बच्चे ही घट्ट पैदा हो रहे हन ते अगली गल इह कि बच्च्यां विच धियां दी गिणती तां खतरनाक हद्द तक घट्ट है (2001 गणना) 1000 मुंड्या पिछे: सिक्ख -786, हिन्दू- 925, मुसलमान-950 अते ईसायी 964. 2011 दी मरदम शुमारी दे धरम दे मुताबिक अजे गिणती आउनी बाकी है पर पंजाब विच धियां दी गिणती सभ तों घट्ट देखी गई है 1000 मुंड्या पिछे:-846. जिस दा मतलब 1000 मुंड्यां विचो 154 छड़े ही रहणगे। एनी गिणती विच जवानां दा छड़े रहना हालातां नूं होर वी गंभीर बना दिन्दा है। सो जे पंजाबियां ने इहनां हालातां दा नोटिस ना ल्या तां इक दिन पंजाब विच ही पंजाबी लोक घट्ट गिणती विच हो जाणगे।
असीं सिक्ख लफ़ज़ इस करके वरत्या है क्युंकि सिक्खां दी गिणती मरदम शुमारी वक्खरी हुन्दी है, सो जे सिक्खां दे रुझान समझ आ  गए तां समुची पंजाबी कौम दे रुझानां दा पता लग जांदा है क्युकि जो सिक्ख कर रहे हन पूरी पंजाबी कौम वी ओहो कुझ कर रही है। सो सिक्ख तों भाव पंजाबी ही  ल्या जावे।
फिर 1947 तों बाअद देश विच लड़कियां दा अनुपात लगातार घट रेहा सी पर पंजाब विचवद्धदा जा रेहा सी।जिवे ही सरकार ने प्रवार अयोजन दी मुहंम नूं प्रचंड कीता तां पंजाबियां ने बच्चे (खास करके धियां) गरभ विच ही मारनियां शुरू कर दितियां ते पिछले सालां दा चल्या आ  रेहा रुझान पलट दिता ग्या। सो  1980 दे दहाके तों बाअद पंजाब विच धियां नूं गरभ विच वड्डे पद्धर ते कतल कीता जाना शुरू हो ग्या। अज्ज पंजाब (2011) विच 1000 नर ते सिरफ 893 मादा हन।
खतर्यां दे बद्दल जो अज पंजाब ते पंजाबियत ते मंडरां रहे हन उह कदी नही देखे गए। मरदम शुमारी दे अंकड़े दसदे हन कि 30 साल बाद पंजाब अन्दर सिक्ख लोक घट्ट गिणती विच हो जाणगे ते पंजाब दूसरा असाम बण जाएगा। (याद रहे असाम विच बंगालियां दी आमद नाल असामी खुद घट्ट गिणती विच हो गए ने ते
     7 
ओथे ओनां  जद्दो जहद छेड़ी होयी है।)  सिक्ख धरम दे 500 साला इतहास विच इह पहली वार होया है कि सिक्खां दा ग्रोथ रेट भाव वधन दर घटी है। पंजाब विच 1991 तो 2001 दे अरसे दरम्यान सिक्ख अबादी सिरफ 18.2% वधी है जदों कि भारत विच हिन्दू अबादी 20.4% वधी है। जे इहो दर जारी रही तां आपनी होमलैंड पंजाब च वी सिक्ख सन्न 2041 तक घट्ट गिणती विच हो जाणगे।
इस तों इक होर अन्दाजा वी लायआ ग्या है कि लग पग 50 सालां च पंजाबी लोक पंजाब विच घट्ट गिणती विच हो जाणगे ते राज बाहरले लोकां ब्हईआं आदि दा हो जावेगा। साडे ओह पंजाबी वीर जेहड़े भड़कावे विच आ   के आपने सभ्याचार ते बोली दा विरोध कर रहे हन इन्हां नूं ओदो ठंड पएगी ते ओदो  ही अक्खां खुलणगियां।
अज्ज तों पंज साल बाद 20% पंजाबी मुंडे छड़े ही रेहा करनगे।
उपरो उपरों लग्गदा है कि पंजाबी लोक बड़े धारमिक ने पर असल विच पिछले 40 सालां विच पंजाब विच सच्च ते धरम कमजोर पए हन। धरम दे नां ते निरी वखावेबाजी ते पाखंड रह ग्या है ते फिर कुदरत दे कंमां विच दखलअन्दाज़ी देन करके वड्डे संताप भोग रहे ने पंजाबी ।बलड्ड प्रैशर ते शूगर दा कारन गैरकुदरती जीवन तौर तरीके हन । ते जे इस रुझान नूं रोक्या ना ग्या ते हौली हौली दुनियां दी बहादर पंजाबी कौम पंजाब विचों गायब हो जावेगी ते पंजाबी बोली ते सभ्याचार मर मुक्क जाणगे। सरकारां दे प्रापेगंडे दे असर करके पंजाबियां जेहड़े बच्चे पैदा नही होन दिते उहदे नाल कौम दा नुकसान तां होया ही है अग्गे पड़ो कि किवे  लोकां दी सेहत ते वी वड्डा असर प्या है।
सो असीं समुच्ची पंजाबी कौम नूं अपील करदे हां कि जे इस संताप तों बचना है तां बच्चे पैदा होन द्यो, चाहे 10 होन चाहे इक।वद्ध तों वद्ध बच्चे पैदा होन द्यो। तुसीं खुद्द वी सुखी हो जावोगे, तुहाडी कौम वी बच्च जाएगी।  क्युंकि असीं इह प्रचार पिछले 4 सालां तों करदे आ  रहे हां ते जिस करके कई थांयी भोले वीरां ते भैणां ने साडा तिक्खा विरोध वी कीता।

सो इह लेख मुक्ख तौर ते सज्जणां दे कीते हेठ लिखे सवालां दा जवाब ही है:-

1.पंजाबी लोक कदी वी पंजाब च घट्ट गिणती च नहीं हो सकदे। इह प्रचार ही गुमराहकुन्न ते फजूल है।
2.दुनियां दी बहादर कौम आखिर गरकी क्युं ?
3.गुन होना चाहीदा गिणती नहीं ?
4.वद्ध बच्चे: अबादी वद्धेगी। अनाज किथों आवेगा ?
5.अबादी वद्धन नाल नौकरियां कित्थों आउणगियां ? बेरुजगारी तां पहलां ही बहुत है?
6.साडी जमीन 3 किल्हे है, 5 बच्चे? किवें गुजारा होवेगा?
7.कुड़ियां दी गिणती जरूर घटी है, कुल्ल मिला के कोयी ऐहो जेहा खतरा नही।
8.देखदे नहीं अबादी तां पहलां ही बहुत है। शहरां विच बन्दे नाल बन्दा वज्ज रेहा है।
9.बच्चे वद्धन नाल मांपे सुखी किवें होणगे? महंगायी तां पहलां ही बहुत है।
10.जे कनेडा च उंजल दुसांझ मुक्ख मंतरी बण सकदा है तां पंजाब च बइ्हिया बनू ते की आख़र आ  जाउ। देखो सिक्ख मनमोहन सिंघ अज्ज भारत दा प्रधान मंतरी है।
11.वधिया जीवन होवे, ना के गरीबी ते भुक्ख नंग होवे।
12.सरकार कहन्दी  बच्चे घट्ट करो, तुसीं वद्ध दस्स रहे हो।
13.ते फिर किन्नें बच्चे होन, 2, 3, 4, 5, 6 जां 7
    8  
14.जी संभव नही, पड़्हायी बहुत महंगी हो गई है?
15.मैं नही चाहांगा कि मेरा बच्चा सरकारी सकूल च फटे हाल पड़े।
16.जे बई्हए पंजाब च बहुगिणती च हो जाणगे तां केहड़ी आफत आ  जाऊ?
17.जी बच्चा पालना बड़ा औखा है, अज्ज कल्ह।
18.तुहाडियां गल्लां तां ठीक हन पर मेरा मन्न अन्दरो नही मन्नदा कि अबादी वधे
19.तुसी ठीक हो। मैं प्रचार वी करांगा, पर मेरी खुद्द दी थोड़ी मजबूरी है।
20.जी मेरे बच्चे हो नहीं रहे, मैं की करां?21.जे इह गल सच्ची है तां अकाल तखत दे जथेदार हुकमनामा क्यो नही जारी करदे?
हुन पड़ो इन्हां सवालां दे जवाब
वद्ध बच्च्यां दे विरोधी होए लाजवाब
1. पंजाबी लोक कदी वी पंजाब च घट्ट गिणती च नहीं हो सकदे। इह प्रचार गुमराहकुन्न है।
जवाब:- इह तुहाडी बहुत वड्डी गलत फहमी है। सरकारी अंकड़्यां वल ध्यान देवो। कोयी बेसझ ही मरदम शुमारी दे अंकड़्यां तों बागी हो सकदा है। आपने समाज वल निग्हा तां मारो किते घट्ट ही किसे प्रवार विच तीसरा बच्चा नजर आ  रेहा है। कई घरां विच तां इक इक मुंडा ही है। सो मरदम शुमारी दे अंकड़्यां च वड्डी सचायी छिपी पई है।
2. घट्ट गिणती च होन दे कारन (मुख सवाल)  आख़िर क्यों गरकी पंजाबी कौम?  (मुक्ख जवाब- हंकार्या सो मार्या)

पंजाबियां दे गरकन दे हेठले 5 कारन बणदे हन:-

 उ मूल कारन - धारमिक कदरां कीमतां च गिरावट अते नासतकवाद/केम्यूनिज़म/माकसवाद दा वध्या प्रभाव
 अ.किरत दे सिधांत नूं पंजाबियां दित्ती तिलांजली
 इ.सरकार दा प्रापेगंडा घट्ट बच्चे सुखी मांपे/परिवार नियोजन
 स.केंदर खिलाफ बगावत विच पंजाबियां दी हार
 ह.अलटरा साऊंड मशीनां दी आमद
 क दाज  ख नामरदी. (नश्यां, फसलां ते छिड़के ज़हर ते रेडीएशन करके आई)

1. मूल कारन - धारमिक कदरां कीमतां च गिरावट अते नासतकवाद दा वध्या प्रभाव

'परमेसर ते भुल्यां व्यापनि सभे रोग॥ वेमुख होए राम ते लगनि जनम विजोग॥'
असीं पंजाबियां ने गरभ विच बच्चे नूं खतम कीता है जां सायंस दे तरीके वरत के गरभ होन नहीं दित्ता। जो असां पंजाबियां कीता है इह धारमिक अपराध है, पाप है। कुदरती कानून्न दी उलंघना कीती है। अजेहा इस करके असीं कीता है कि साडा धरम विच भरोसा पूरा नहीं। असां सोच्या कि ज्यादा अंञांने की करने ने इक दो ही रखदे हां। चंगा पड़ावांगे, चंगा पालण-पोशन करांगे। बच्चे नूं किते टिकाने पहुंचावांगे, ऐवें हेड़ की करनी आं।
असां सोच्या साडे वसीले थोड़े ने। जमीन थोड़ी आ बेरुजगारी पहलां ही बहुत है। अंञांने वद्ध हो गए ते की बणू। कनाल कनाल वी हिस्से नही आउणी। नासतक जु हो गए, क्युकि धरम ने तां उंज इह गल पहलां ही सपश्शट कर रक्खी है कि 'सिरि सिरि रिजकु सम्बाहे ठाकुरु'। कुदरत ने सभ इंतजाम पहलां ही कीते होए हन।दुनियां च अरबां खरबां किसम दे जिय पर हर इक दा जुगाड़ पहलां ही हाजर है। की की उदाहरणां दितियां जाण..। गहु नाल वाच्यां पता लगदा है कि गुरबानी किन्नी दूर दी गल पहलां ही कह रही है।
पहलो दे तैं रिजकु समाहा॥ पिछो दे तैं जंतु उपाहा॥
भाव जिय दे पैदा होन तों पहला उहदा खाना दाना आ  जांदा है। बच्चे दे आउन तों पहलां उहदा दुध आउदा है। फिर देखो इनसानी मां तां बच्चे दा मूंह थण तक खड़ सकदी है जानवर दे बच्चे नूं कौन दसदा है कि पिछलियां लत्तां विच हवाना है जिथे थण हन। पर हथनी दे थण अगलियां लत्तां च हुन्दे हन ते बच्चे नूं ओनां बारे कौन दसदा है। बन्दा 10 फुट्ट तों थल्ले डिग्गे तां लत्तां बाहवां तुड़ा बहन्दा है पर 15 फुट्ट उची जराफ (णी) खलो के बच्चा दिन्दी है। बच्चा घड़प्प करके थल्ले डिगदा है। ओनूं कौन बचाउदा है? ओदों गुरूता खिच्च किथे चली जांदी है। दर असल असी हंकारे गए हां। गुरू नानक तां साडे वासते प्रसंगंक रह ही नही ग्या।आपने आप नूं ज्यादा स्याना समझन लग गए हां।
कहन तों भाव कुदरत ने जिय दे सारे इंतजाम कीते हुन्दे हन। कदी कोयी भुखा मरदा है तां बस असी ओसे नूं ध्यान विच रक्ख के कादर तों भरोसा गवा बहन्दे हां। इनां नही समझदे कि इह उस दी खेड है, वन्नगी है।
ओधर धरम कहन्दा है कि हर जिय दी आपनी आपनी किसमत हुन्दी है, कि इक गरीब घर दा बच्चा वी उचे तों उचा अहुद्दा हासल कर सकदा है। वड्डी तों वड्डी विद्या लै सकदा है। धरम कहन्दा है ''प्रगट्या सभ मह लिख्या धुर का।'' भाव जनम समें ही इनसान दा आउन वाला सारा जीवन तह हो ग्या सी।
माथै जो धुरि लिख्या सु मेटि न  सकै कोइ॥ नानक जो लिख्या सो वरतदा सो बूझै जिस नो नदरि होइ॥(म:3, अंग 1413)
सो धरम किसमत मन्नदा है ते तरक  जां नासतक सोच इह कहन्दी है कि असां ही आपनी किसमत बणाउनी है बाकी गल्लां फजूल हन। इह लिखारी खुद्द वी किसे वेले दूसरी सोच दा धारनी रेहा है। पर अज्ज अक्खां खुल्ल गईआं हन क्युंकि खुद्द सायंस ने वी गल साबत कर दित्ती है कि इनसान दा बहुता कुझ उदों ही तह हो जांदा है जदों उह मां दे गरभ विच हुन्दा है। जेहड़े लोक जीवन सायंस (ळडिइ सचइनचइस) पड़े हन उनां नूं पता है कि जीव दा सरीर कोशकावां (चइललस) दा बण्या है जिस विच इक केंदर (नुचलइुस) ते उस अन्दर करोमोजोम हुन्दे हन। जिन्न्हां ते फिर डी.ऐन.ए. दियां पउड़ियां हुन्दियां हन। डी.ऐन.ए. दी गिणती अरबां खरबां च हुन्दी है ते हर डी.ऐन.ए. जीवन दे इक पक्ख दा कोड जां संकेत हुन्दा है। पिछे जेहे अंमृतसर विच ही विग्यानियां (डा. दलजीत सिंघ, डा जैरूप सिंघ गुरू नानक देव यूनीवरसिटी) ने इक खास डी. ऐन. ए दी खोज कीती अते जे उह किसे दे सैल विच होए तां अजेहे विअकती नूं जवानी विच ही मोतिया बिन्द हो जावेगा भाव बन्दा अन्ना हो जावेगा। इस तरां दे अरबा-खरबां डी.ऐन.ए. हुन्दे हन जो इक इक करके जीवन दे हर इक पक्ख नूं आपने अन्दर समोयी बैठे हन।
साडे जीवन दी सारी कहानी डी.ऐन.ए. राहीं पहलो ही लिखी जा चुकी है। असीं इस विच बहुता हेर फेर नहीं कर सकदे। सो इस गलों धरम दी गल विच वज़न ज्यादा है। धरम ज्यादा सच्चा लगदा है। सायंस उन्हां चिर किसे सिधांत दी विरोधता नहीं करदी जिन्नां चिर उसनूं झूठ साबत ना कर देवे। नासतकां विच वी कट्टड़ सोच वाले बन्दे हुन्दे हन जो अजेही गल नूं मन्नन नूं त्यार नही जिस दी परवानगी सायंस नां दिती होवे। ओधर सायंस विच निमरता है। पर सायंस दी कोशिश निरंतर जारी है। जीवन दे रहस्स नूं समझन दी। जिवें अकसर धरमों हौला बन्दा कट्टड़ हो जांदा है, एसे तरां साडे कई वीर जो सायंस विच अजे हौले हन, ने धरम दी हज़ारां साल पुरानी सोच नूं त्याग के सायंस कट्टड़पन अपनायआ ते आपनी पैरीं कुहाड़ा मार्या है।
अज्ज पंजाबी समाज ते इस तरां कट्टड़ कम्युनिसट सोच भारू हो गई ते धरम निवान वल्ल चला ग्या। सिक्ख धरम जो पंजाबियत दे धरम दा धुरा है अज्ज हद्द दरज़े दा नीवान वल है।
अज्ज पंजाब विच जेहड़े लोकां धरम दा मुखौटा पायआ होया है अन्दरों इनां दा धरम विच विशवाश नहीं है। मिसाल दे तौर ते अकाली दल सिक्ख धरम दी पारटी अखवाउदी है। असीं इक वेरां अकालियां दे जलसे विच सवाल पुछ ल्या कि भायी जिन्नां वीरां नूं जपुजी साहब जबानी याद है हत्थ खड़ा करो। दुक्ख दी गल्ल है कि 500 बन्द्यां विचों सिरफ इक दा ही हत्थ खड़ा सी।
क्युंकि पंजाबियां दा धरम विच भरोसा हौला पै ग्या है अज्ज इह गुरू नानक दी फिलासफी नूं वी कई वेरां चैलेंज करदे वेखे गए हन। उदाहरन दे तौर ते जदों गुरू नानक आए उस वेले जोगियां दा पंजाब विच बड़ा ज़ोर सी ते गुरू साहब ने उन्हां जोगियां दी सोच नूं विअरत्थ साबत कीता ते गुरबानी विच थां थां ते इह जिकर मिलदे हन।
पंजाबियां दी गिरावट दा आलम देखो अज्ज ओनां ही जोगियां (जेहड़ी सोच नूं गुरू साहब ने रद्द कीता सी) दी फिर पंजाब विच चड़्हत हो रही है ते जोगी सोच नूं वक्ख वक्ख लिबास पुआ (डेरा ब्यास ते सिरसा डेरा आदि) पेश कीता जा रेहा है। पंजाबी लोक गुरू नानक दे सच्च दे रसते नूं छड्ड कोयी सौखा रसता (शारट कट्ट) लभ्भन दी ताक विच हन।
   10  
धरम विचों त्याग दी भावना खंभ ला के उड्ड गई है। पंजाब विच अज्ज नकली गुरूआं दी भरमार होयी पई है। लोक वी खोखले ते इनां दे गुरू वी खोखले। झूठे नूं झूठे दी संगत विच ही आनन्द आउंदा है। पंजाब विच 40 सालां तों गरभ विच लोक जानां खतम कर रहे हन किसे गुरू ने दुहायी नहीं पाई। क्युंकि गुरू वी साडे वरगे ही हन। गुरू जिन्न्हां दे टपने चेले जान छड़प्प।
धारमिक कदरां कीमतां दी जेहड़ी बेरुहमतखी होयी है, धरम जो निवान वल्ल ग्या उसे निवान दे लच्छन सपशट्ट नज़र आ  रहे ने जिवें :-
1.सकूलां/कालजां विच श्रेआम नकल मारनां ते अध्यापक वरग ने जां तां मदद करनां जां चुप्प रहणा
2. सरकारी बिजली दी वड्डे पद्धर ते चोरी करना।
3. रिशवतखोरी दा हर पद्धर ते कई गुणां वाधा
4. दोगलेपन दा अतिअंत भारू हो जाणा।
सो दूसरा कारन है पंजाबियां विच नासतकता दा वधणा। जिसदा मूल कारन सी कम्यूनिसट विचारधारा दा फैलाअ।कम्यूनिसट लोक कुदरती कदरां कीमतां दी प्रवाह नही करदे ते सिरफ आपने आप ळ  ही सभ कुझ समझ बहदे हन। इथो तक कि बाल बच्चे पैदा करनां वी बोझ समझदे हन। प्रमातमा दी होंद तों आकी इह लोक आपने आप ळ  रब तों वड्डा दसदे हन। जिस करके धारमिक, कुदरती ते सभ्याचारक कदरां कीमतां दी खिल्ली उडायी गई। कामरेड बुरा करन लग्या प्रवाह नही करदे क्युकि उह पाप पुन्न  ळ  मन्नदे ही नही।
इह साडी बदकिसमती है कि असी धरम दे असूलां ळ  अणगोल्या है जिदा सिधांत है कि हर जिय दी किसमत उस दे पैदा होन वेले ही तह हो जांदी है। उदाहरन वजों 1947 च जदों भारत अजाद होया तां अबादी सिरफ 32 क्रोड़ सी। पर थां थां भुक्खमरी सी। ओदो सरकार कदी अमरीका कोल बगली फड़ के अनाज लैन जांदी सी जां रूस कोल। अज्ज अबादी 121 करोड़ है ते भारत अन्दर अनाज दे भंडार भरे पए हन। सत्तरवें दहाके च ही  फिर प्रवार नियोजन दी डौनी पिट्टी गई। ते उह वी पंजाब विच ही सभ तों ज्यादा। क्युकि पंजाबी लोक बौलद वांङू भोले गिने गए हन ते बरीक सोच घट्ट ही रखदे हन। सुभावक है कि इन्हां दे लीडर वी इहो जेहे लोहले ही रहे हन जो समझ ही नां सके कि इस चाल दा नतीजा की निकलू। लीडरां ने कौम ळ  इन्हां चालां तों सुचेत कीता ही नही। ते नतीजा अज्ज साडे साहमने है। धारमिक भावनां जिस विच इनसान हलीमी विच आ  के दूसर्यां दी चरन धूड़ बणदा है उह इथो गायब हो गई ते हऊमेधारी सोच समाज ते भारू हो गई।
इस मजमून नूं अग्गे विसथार नाल दस्स्या कि किवें पंजाबी लोकां विच अत्त दा विखावा आ  ग्या है, अन्दरों कुझ ते बाहरों कुझ। हर कोयी आपने आप नूं वड्डा करके पेश करन दी कोशिश विच है जिस करके आपनी बोली अते सभ्याचार दा वड्डा नुकसान कर रहे हन इह। इन्न्हां कई मेहनत दे कंमां/ नौकरियां नूं नीवां करार दे दिता है ते पंजाब विच अजेहियां नीवियां नौकरियां करन तों शरमाउंदे हन ते बाहर मुलकी जा के ओथे ओहो नीवे कंम खूब करदे हन।
अज्ज 90% मरद औरतां जिनां दे वाल चिट्टे हो जांदे हन वालां नूं रंगदे हन । असीं इह नही कहदे भई इह माड़ा कंम है पर अज्ज तों 40 साल पहलां इह रुझान बहुत घट्ट सी। किसे ने वाल काले कीते हुन्दे तां लोक उनूं मखौल करदे। पर अज्ज तां हर कोयी कर रेहा है। भाव पंजाबी लोक असलियत दा साहमना नही कर पा रहे। झूठ विच जी रहे ने। हर कोयी वड्डा (महान) दिसन दी ताक विच है।फिर अज्ज देखो हर कोयी टुट्टी-फुट्टी हिन्दी जां अंगरेजी बोलन दे रोंय विच है: दोगलापण।
      11     

अ.किरत दे सिधांत नूं पंजाबियां दित्ती तिलांजली

पंजाब तां जींदा ही गुरां दे नाम ते सी। गुरू ने इनां नूं जीवन जाच सिखाई, जीवन दा भेद सिखायआ कि किवे दुक्खां सुक्खां तों उपर उठ चड़्हदी कल्हां च रहना है। पंजाबियां दे सिद्धे सादे सुभाय अनुसार इक नुकता दे दिता  गुरू साहब ने कि 1. नाम जपणा, 2. किरत करनां ते 3. वंड छकणा। तुसी उते पड़्हआ है कि किवे अज पंजाबियां नूं नाम जपना भाव रब्ब दी सिफत सलाह करनां वाधू जेहा लगना शुरू हो ग्या है। ते कहदे "लै इह वी कोयी गल होयी ओहो सतिनाम वाहगुरू दी रट्ट लायी जायो" जां "रब्ब कोयी बोला है"। बड़े मजे दी गल तुहाडे नाल सांझी करदे हां कि कई डेरेदारां ने श्रेआम ही इह गल कहनी ते लिखनी शुरू कर दिती कि देखो जी सच्च ते चलना असंभव है इस करके रब्ब दे राह ते इह जरूरी नही। विगड़े होए पंजाबी एहो जेहे डेर्यां वल खिच्चे चले आए। नतीजा कोयी डेरा कहदा मेरे शरधालू इक क्रोड़ कोयी कहदा जी मेरे तां 2 क्रोड़। कई डेर्या दे कातल गुरू तां अज्ज हकूमत वासते वी मुसीबत बने होए हन। जबर जनाह दे इलजाम तां एनां डेर्यां ते लगदे ही रहदे हन। मजे दी गल इह है कि खुद्द सरकारां ने ही इन्हां डेर्यां नूं सिक्खी खिलाफ वरतन लई हवा दिती सी ते अज्ज एहो डेरे सरकार दे गल पै रहे हन; बिल्ली ने शींह पड़्हायआ बिल्ली नूं खान आया।
चड़्हदी कला दे जीवन दा जेहड़ा दूजा राज सी कि किरत करनां उह कामरेडां ने छडा दिती। कामरेड विचारधारा कहन्दी कि तुहाडा मालक (Employer) तुहाडा शोशन करदा है ते आप मुनाफा कमाउदा तुहानूं मुनाफे विच हिस्सा नही दिन्दा। कामरेड ने मालक खिलाफ नफरत पैदा कर दिती। पंजाबियां ने होली होली कंम करनां बन्द कर दिता ते हड्ड हरामी होने शुरू हो गए। इस गल दा अहसास मैनूं सन्न 1990 च होया जदो असां इक राज मिसतरी ते मजदूर देहाड़ी ते लाए ते शामी जदों देख्या ते उनां कक्ख भन्न के वी दोहरा नां कीता। अगले दिन फिर ठेका कर ल्या तां महसूस होया कि पहले दिन ओनां ने 8 घंट्यां विचों सिरफ घंटा ही कंम कीता। अज्ज जिदे नाल वी गल करके देखो कहूगा जी बइ्हीए ठीक ने, कंम लगन नाल करदे।
हुन तक तां पंजाबी लोक दुनियां दी सभ तों मेहनतकश कौम गिनी गई सी। वेखो अंगरेजां ने किवे पंजाबियां दे मेहनतकश होन दे थां थां पर गुन गाए होए ने। पर अज्ज साडी बदकिसमती देखो पंजाबी किरत तों मूंह फेरन लग ग्या है। गुरू नानक दा धरम किरत करन वाले नूं वड्याउदा है ते पंजाबी लोक अज्ज किरत करन वाले नूं नीवां गिन रहे हन।
धरम तों बेमुख होए, गुरबानी तो बेमुख होए समझदे हन कि जी लंगर लवा द्यो, गुरदुआरे दी इमारत सोहनी बणवा द्यो। अखे लोक सिक्खी नूं मन्नन मैं पैसा दान कर सकदा हां आप सिक्खी अमल नही कर सकदा। गुरू वी फिर इनां नूं ओहो कुझ दई जांदा है जो इह दान करदे हन। इनां दियां कोठियां वड्डियां ते ढिड्ड वड्डे। गुरसिक्खो रब्ब दा खौफ खायो आप सिक्खी हंढायो। कदी दान करनां है तां प्रचार करो। गुरबानी गुटके वंडो, सिक्ख इतहास दियां किताबां वंडो, गुरबानी दियां सीडियां वंडो।  निरा लंगर लाउन नाल गल नही बणनी। जे सिक्ख ही कमजोर पै गए तां संगमरमरी इमारतां की करनगियां।

पंजाबी क्युं बेरुजगार हन ?

पंजाबियां नूं नौकरियां क्युं नहीं दिस रहियां ?

सो पंजाब विच 25 लक्ख पोसटां खाली होईआं जेहड़ियां पंजाबियां नूं दिस्सिया ही नां ते बइ्हीए बाजी मार गए। पंजाबियां नूं इह नौकरियां इस करके ना दिस्सियां क्युंकि पंजाबियां नूं फेटा पै ग्या है पंजाबी लोक हंकारे गए हन। पंजाबियां विच अज्ज दोगलापन ते फुकरापन भारू है। इहनां विच फिर ब्रहमणवाद भारू हो चुका है। इह गुरू नानक दे किरत दे धरम नूं त्याग चुके हन।
इस तरां हंकारे गए हन कि इन्न्हां ने सारे कंमां कारां दियां श्रेणियां बना लईआं हन। फलाना कंम उच्चा ते फलाना नीवां। कुझ कंमां नूं इह टौहर वाले गिणदे हन ते कुझ नूं मामूली नीवें।
टौहर वाले कंम - पुलिस, सकूल मासटर, बिजली बोरड दी मुलाजमत, पटवारी, बाहरले मुलक जा के कोयी वी कंम करना भावें सफायी दा वी होवे।
नीवें कंम - किसे दे घर कंम करना, किसे दी चौंकीदारी करनी, किसे दे भांडे, मांझणा, किसे दे बच्चे नूं सांभणा, किसे दे बजुरग नूं सांभणा, किसे दे घर नूं सांभणा, राज मिसतरी, मजदूर, सबजी वेचणा, कारखाने च कंम, ड्रायवरी आदि।
क्युंकि इह दोगलेपन (Hipocracy)  च हन बाहर जा इंगलैंड, अमरीका, कनेडा हर कंम कर सकदे हन। बाहर जा के इह किसे अंगरेज दे भांडे वी मांझ सकदे हन। टायलट साफ करदे, बाहर जा के बजुरगां नूं तां आम ही सांभदे हन।
पर पंजाब विच आपना खुद्द दा झोना नहीं लाउणा। जी साडा नक्क नहीं रहन्दा। झोना लाउन दी तनखाह 9000 रुपए बणदी है। पर जी असीं सकूल मासटर बण सकदे हां। प्राईवेट सकूलां विच तनखाह 2000 रुपए महीने लगपग। इन्नां दी मत्त देखो इस तरां मारी गई है कि झौना लाउन ते बइ्हिया महंगा रक्खदे हन ते आप सकूल विच ससती तनखाह ते कंम करदे हन। इस तरां गरक गए हन।(हंकार्या सो मार्या)
जेहड़ी कौम किरत तों शरमाय जाए मेहनत ना करे उह दुनियां दे नकशे तों मिट जांदी है। सो वीरो ते भैनो किरत तों नां शरमायो। जो वी कंम मिले कर ल्या। हंकार छड्ड द्यो। मेहनत करन विच कोयी मेहना नहीं हुन्दा। गवांढ विच जे कोयी अमीर घर है तां उन्हां दा हत्थ वटायो। इह हदायत खास करके धियां वासते है। वेहले नहीं बहणा। तुहाडे पिंड विच आ  के जो बइ्हिया कंम कर रेहा है उह तुसीं आप करो। मुफ़त नहीं पैसे लयो, अगले कोलो।पड़े लिखे लोक आप कंम करके मिसाल पैदा करन। बाकी लोक देखना आपने आप कंम करनां शुरू कर देणगे।

इ.सरकारी प्रापेगंडा:  प्रवार आयोजन

विदवान ते मनोचकितसक अज्ज इस नतीजे ते प्चे हन कि कुड़ियां दा मारनां सिद्धे तौर ते प्रवार नियोजन दे सिधांत दे प्रचार करके होया ए
सरकार दा फैमली पलैनिंग प्रचार पंजाब विच हद्द बन्न्हें टप्प ग्या। रेडीयो, टी.वी, अख़बारां, फ़िलमां ने इस ते पूरा ज़ोर ला दित्ता। आराम पसन्द हो चुक्की भोली कौम ने इस सकीम नूं हत्थां ते चुक्क ल्या। भारत दे होर किसे वी तब्बके ने इस प्रोगराम नूं एन्हां ना अपणायआ जिन्न्हां पंजाबियां ।
इह हरे इनकलाब करके होया- 60वें दहाके च पंजाब च खेती बाड़ी इनकलाब आया। प्रचार होया लोकां नवियां जिणसां, खादां, नवे सन्दां, कीड़े मार दवाईआं दी खुल्ल के वरतों कीती ते भारती सूब्यां विच पंजाब मोहरी सूबा बण ग्या ते मन्न्या ग्या कि पंजाबी किसान रूड़ीवादी नही है ते प्रवरतन नूं अपणाउन नूं त्यार है। पंजाबी किसान दी पूरी दुनियां च शलाघा होई।
पंजाबियां दे दिलो दिमाग विच इह गल बह गई कि सरकार जो वी तबदीली दा ऐलान करदी है ओह जनतक हित्त ते  भलायी लई ही हुन्दी है। भाव लोकां दे मनां विच सरकारी विग्यानक पहुंच बाबत सतिकार पैदा हो चुक्का सी। सो फिर जदों सरकार ने केहा कि वद्ध अबादी च नौकरियां मिलणियां असंभव ने, लोकां नूं वी दलील जची ते सरकारी सलाह ते लोकां फुल चड़्हां समूहक आतम हत्या दा राह खोल दिता। सोच्या ही नां कि इस विच साजिश भरी पई ए।
इक साबका अफसर ने लिख्या कि केंदर साजिश तहत पंजाबियां नूं खतम करना लोड़दा है।
भारत सरकार दे इक साबका सीनियर इंटैलीजैंस अफसर संगत सिंघ जो कि सरकारी नीती घड़न वाल्यां विच सी, ने आपनी किताब इतहास विच सिक्ख विच लिख्या है कि इन्दरा गांधी दी सरकार ने सिक्खां नूं खतम करन जां नुकसान पहुंचाउन दियां कई साजिशां घड़ियां। प्रवार अयोजन उन्हां साजिशां विचों इक है।
पंजाब विच सिक्ख ते गैर सिक्ख दोनों हन। ओधर दिल्ली केंदर पंजाब दे गैर सिक्खां नूं वी सिक्ख ही मन्नदा है क्युंकि केंदर दा कहना है कि पंजाब दे मसल्यां ते सारे पंजाबी इक हो जांदे हन जिवें कि 1980 दे दहाके विच देख्या ग्या सी। हां पंजाब दे आरिया समाजी कुझ ब्रहमन बणीए ते बइ्हीए जरूर केंदर दी हमायत करदे हन, पर दिल्ली सोचदी है कि आटे नाल जे घुण्न पीसदा है तां पीसन द्यो ते बरदाशत करो।
सो जे संगत सिंघ दी गल्ल मन्नों तां केंदर ने इह सारा कुझ जान बुझ, सोच समझ के नीती अधीन कीता है। संगत सिंघ दा कहना है कि नशे वी पंजाब विच नीती तहत ही वरताए जा रहे हन। रब्ब करे इह इलजाम गलत होवे पर सानूं इह नहीं भुलना चाहीदा कि संगत सिंघ
     13    
 सरकारी नीती घड़नी सभा (Think Tank) दा मैंबर रेहा है। फिर केंदर दा पंजाब नाल वितकरा तां जग्ग ज़ाहर हो चुका है। जिवें पंजाब दे कारखान्यां नूं बाहर कढणा, पाणियां ते डाका आदि आदि। सो इह लिखारी वी संगत सिंघ दी सोच दी हमायत करदा है। सो इस मसले ते कसूर सरकार दा ए।
स.खालिसतानी बगावत दा कुचले जाना
विदवान लोकां दा मन्नना है कि जदों कोयी कौम युद्ध विच  हार जांदी है तां उन्हां विच निराशावाद दी लहर उठदी है जिस करके हारी कौम ळ  आपने समाज दियां कदरां कीमतां निगूणियां लग्गन लगदियां हन। पंजाबियां दे गरकन दा इह वी इक कारन है (Wave of demoralisation & Frustration)
इक बजुरग अंगरेज लिखारी नोल किंग ने सिक्खां बाबत लिख्या है कि इतहास विच कई मौके आए जदों सिक्ख ताकत इक दम जमीन ते आ  जांदी है ते फिर बड़े असचरज तरीके नाल उट्ठ खलौंदी है। कई विदवानां ने तां हासोहीणियां उदाहरणां वी दित्तियां हन। कई कहन्दे हन इह सिक्ख लोक खोरी (कक्ख कान) दी अग्ग दी न्यायी हन। इन्न्हां दा भम्बाका पइन्दा है। ते अग्ग झट्ट बस हो जांदी है। इह धुखदे नहीं रह सकदे।फिर कई इतेहासकारां ने सिक्खां नूं फीनकस बाज़ लिख्या है। इस बाज बारे मशहूर है कि इह सड़्ह के सुआह हो के फिर उठ पैंदे हन।
सो पंजाबियां विच जो गिरावट आई है इह थोड़े समें वासते भाव वकती है। बस इस बहादर कौम नूं चुकन्ने कर द्यो बाकी इह आपे वेख लैदे हन।

ह.अलटरा साऊंड मशीन दी आमद

बच्चे नूं गरभ विच मार मुकाउन दा कंम बदकिसमती नाल अंमृतसर तों ही शुरू होया 70वें दहाके दे अखीर विच ही  मोनी चौक, हाथी गेट, अंमृतसर दे इक लेडी डाकटर ने अमीन्योटिक फलूड Amniotic fluid तों बच्चे दा लिंग पछानना शुरू कर दित्ता ते धियां नूं धड़ा-धड़ गरभ च खतम करना शुरू हो ग्या। इलाके दे सफायी मुलाजमां मुनिसपल कमेटी कोल शकायत कीती कि डाकटर साहबा गरभ डेग के गन्दी नाली विच सुटीजा रही है। सरदारा सिंघ, म्यूनिसपल कमिशनर (बाद डिपुटी कमिशनर अंमृतसर) ने कानून्नी कारवायी डाकटर दे खिलाफ शुरू कर दिती। पर विचारा डी.सी चुप्प कर ग्या जदों उतो डी.सी आपटे गवरनर पंजाब दा फोन आ  ग्या,  “भयी वोह प्रवार नियोजन मैं डाकटर सहायी है ओसे तंग मत करो।”
सरकार ने प्रवार अयोजन प्रापेगंडा प्रचंड कीता होया सी। गरभ डेगन दी मंग वध रही सी। दसम्बर 1982 च चंडीगड़्ह 17 सैकटर दे इक डाकटर ने फिर अलटरासाऊड मशीन जरमन तों बरामद कर लई। डाकटर दे लाईनां लग गईआं। बाअद विच इस दी मंग नूं देखदे होए लारेंस रोड, अंमृतसर दे इक डाकटर ने वी अलटरासाउंड मशीन मंगवा लई ते कंम वड्डे पैमाने ते बच्च्यां दा कतलाम गरभ विच शुरू हो ग्या ते झट्ट पट्ट बाकी दे शहरां वल्ल वी फैल ग्या।
सरकार ने गरभपात करन नूं कानून्नी रक्ख्या वी प्रदान कर दित्ती। भाव गरभ नूं खतम करनां सरकार ने मनजूर ही कर दिता। ओधर प्रवार आयोजन दा सरकारी प्रापोगंडा सिक्खर ते सी ते नाल ही दाज बाबत टी.वी. ते रेडीयो ते प्रापेगंडा चल रेहा सी। नतीजा अज्ज तुहाडे सभ दे साहमने है। दुनियां दी बहादर कौम ने आपनी पैरी आप कुहाड़ा मार ल्या। दिल्ली सरकार ने बिनां खून दा कतरा वहाए सिक्खां (पंजाबियां) नूं टिकाने ला दित्ता।
क.दाज - जां दहेज दी रसम ने वी पंजाबियां दा घान कराउन विच पूरी मदद कीती। क्युंकि सूझवान मांपे आपने दिल दे टुकड़े नूं व्याह मौके, नवीं जोड़ी दा घर वसाउन खातर कुझ ना कुझ मदद दिन्दे हन जिस कारन लोभी लोकां नाल कदी पंगा पै जांदा है। भाव उह सहुरे जेहड़े दहेज वजों ज्यादा जायदाद चाहुन्दे हन ते लालच विच आ  के बगानियां धियां ते जुलम ढाहुन्दे हन। धियां ते इस प्रकार होए जुलमां ते दाज नूं केंदर सरकार ने झंडे ते चड़ा के पेश कीता ते लोकां विच सहम पैदा कर दित्ता कि कल्ह नूं उन्हां दी धी नाल वी इह कुझ हो सकदा। लोकां ने इस प्रकार धियां नूं फिर गरभ विच ही मारनां शुरू कर दित्ता। इक अंगरेज समाज वग्यानी दा कहना है कि लोक वाहे होए खेत दी न्यायी हुन्दे हन जिस विच जेहड़ा मरजी बी पा द्यो। भाव जनता दा समूहक पद्धर ते आपना दिमाग नही हुन्दा। समाज नूं प्रापेगंडे राही जिथे मरजी जो द्यो इह सील बौलद न्यायी वगदा है।
इक मोटा जेहा अन्दाजा है कि इक क्रोड़ दे करीब गरभ डेगे गए। कुझ वी होए साडे 50 लक्ख भैन भरा गरभ विच ही मार दिते गए।
ख. 1.नश्यां, 2.फसलां ते ज़हर  अते 3.रेडीएशन करके आई नामरदी
जणेपे ते नामरदी ते कंम करन वाले साडे डाकटर मित्रां ने दस्या कि पंजाब विच अज्ज वड्डी तादाद विच जवान नामरद हन भाव उनां दे शुकरानू कारगर नही हन ते बच्चा पैदा करन तों असमरथ हन। जिस दा मुख कारन हन नश्यां दा रुझान। आम करके पंजाब दे पेंडू हलके ते खास करके सरहद्द लागले पिंड। जो होर खतरनाक गल सानूं दसी गई है कि ट्रिबीऊन अख़बार च आया है कि सबजियां ते जो अन्नेवाह जहरीलियां दवाईआं छिड़कियां जा रहियां हन उनां दा वड्डा असर पंजाब दे लोकां दे शुकरानू ते अंडेआं ते होया है। जिस करके पंजाबी जुवान ते मुट्यार दी बच्चा पैदा करन दी समरत्था घट्टी है। फिर मालवे दे इलाके विच जो यूरेनियम करके रेडीएशन देख्या ग्या है ओह वी पहलां शुकराणूआं ते जनाना अंडे (ओवा) ते असर करदा है।
 इह वी इक वड्डा खतरा है जिस वल पंजाबियां नूं गौर करना पवेगा।नामरदी दा इको इक हल्ल ओह जो कुदरत विच हुन्दा है। जिथे पैदायश दी गुजायश घट्ट होवे ओथे कुदरत ज्यादा जी पैदा कर दिन्दी है। बस सानूं अबादी वधाउनी होवेगी। किसानां ने जहर पाउन तों बाज नही आउना क्युकि सरकार कंटरोल करन नूं त्यार नही।
जिवे असां पिछे दस्या है कि धरम कमजोर प्या है पंजाब विच, नैतक कदरां कीमतां घटियां हन ऐन एसे करके ही इह खतरा बण्या है। अमीर बनन दी दौड़ विच साडे किसान जहर पाउन दियां सारियां हद्दां बन्ने टप्प गए हन।अज्ज तां सबजी खान वेले किसे वेले डर लगदा है। दुद्ध दा बुरा हाल है।नकली दुद्ध तक बनन लग पए हन।जिसदा मतलब है इक दिन दोधियां दा कंम चौड़ हो जाएगा ते सभ लोकी पैकट दुद्ध ही वरतणगे।
अगला सवाल:-

3. गुन होना चाहीदा कि गिणती ? (Quality not Quantity)

कयी सज्जणां दा कहना है कि ज्यादा गिणती करके की करना, गुणवान बच्चे पैदा करो, भावें थोड़े ही होन। हेड़ां की करनियां सिरफ आगू पैदा करो। (Produce quality not quantity) अखे जी शेर दा बच्चा इक्कला ही हुन्दा है। देखो यहूदी लोक बहत थोड़ी गिणती विच हन ते दुनियां ते राज कर रहे हन ? अजेहे ही कुझ सवाल साडे नाल अमूमन सज्जन करदे हन। इनां सवालां दा  जुआब पड़्ह के तुहाडे रोंगटे खड़े हो जाणगे कि असी किन्नी गलतफहमी विच रहे हां।
पहली गल्ल तां इह झूठ है कि शेर दा बच्चा इक हुन्दा है। शेरनी 2 तों 6 तक्क बच्चे दिन्दी है। हां शेर दी इक माड़ी करतूत हुन्दी है कि नर शेर इक दूसरे दे बच्चे मार दिन्दे हन। पर पंजाबी लोक शेरां नूं वी मात पा गए हन। शेर दूसरे दा बच्चा मार दिन्दा पंजाबी आप ही आपने बच्चे मारदे हन।
   15  
 अगली गल इह कि यहूदी लोकां दी घट्ट गिणती होन दे बावजूद उह दुन्यां ते राज कर रहे हन। एथे वी विरोधी गलत हन, बाहरदे यहूदी (झइास नि धउिसपोरउ) दी गिणती सिक्खां नालो वद्ध है। वड्डे शरम दी गल्ल इह है कि यहूदियां दा ग्रोथ रेट (वद्धन दर)  पंजाबियां नालो किते वद्ध है। हिटलर ने यहूदियां दा कतलेआम कीता उस तों बाअद इन्न्हां दी गिणती डेढ करोड़ तक्क पहुंच गई है।
पिछले 40 सालां तों साडे नासतक नीती घाड़्यां ने हौली हौली ''इक प्रवार इक बच्चा'' नूं उतशाह दित्ता। नतीजा साडे साहमने है, इस गिणती नाल किन्ना- कु गुन पैदा होया। साडे अखौती बुद्धीजीवी कह रहे सन हेड़्हां नहीं अफसर पैदा करो, मजदूर नहीं इंजियर पैदा करो। हुन 40 साल बाअद नतीजा साहमने है। दूसरे पासे लगपग 1985 तक्क पंजाबी लोक आपने कुदरती लहजे च मटक के चल रहे सन ते हर पासे पंजाबियां दा बोल बाला सी।
अज्ज साहमने पई अख़बार विच भारत दी सिवल सरवसिज़ (SSP/ DC) दी भरती दा नतीजा निकल्या है। जेहड़े लोक कहन्दे जी गुन होना चाहीदा गिणती नहीं उन्हां दा सिर शरम नाल झुक्क जाएगा कि अज्ज पंजाब 'चों घट्ट ही जुआन आई.ए.ऐस. लई चुने जांदे हन। कोयी वेल्हा हुन्दा सी पंजाबी लोकां दा आई.ए.ऐस. काडर च दब दबा हुन्दा  सी। दिल्ली विच बकायदा गरुप हुन्दा सी, पंजाबी बनाम दक्खन भारती। अज्ज कल्ल्ह दक्खन भारती बनाम यू.पी./ बेहार है।मैरिट दे पहले 200 नावां च सिरफ 8 ही पंजाबी हन ते ओह वी सारे दे सारे पंजाबों बाहर दे, दिल्ली जां हर्याने दे।
6. रवी धवन,  43. ईशा खोसला,  70. हरजिन्दर सिंघ,  76. नवनीत सिंघ चाहल, 81. दीपती उपल, 136. सन्दीप सिंघ, 170. सनप्रीत सिंघ, 185.दलजीत  कौर।
200 अफसरां विच सिरफ 8 पंजाबी, इहनां विचों वी सारे बाहरले सूब्यां दे, ते कदी वेल्हा हुन्दा सी पंजाबी लोक 39% तक्क हुन्दे सन। पहलां फौजी अफसरां च ज्यादा गिणती पंजाबियां दी हुन्दी सी। अज्ज सिरफ 2 - 4%ही रह गए हन।
सेहत पक्खों पंजाब गरक्या- अवेसलापन वधन कारन हेठ लिखे रोग पंजाब च अज्ज घर कर गए हन। बलड्ड प्रैशर, हारट अटैक, शूगर, गंठिया (बेकार गोडे), पेट गैस, बच्चेदानी दियां रसौलियां, अनियमत माहवारी, नामरदी, कैंसर, रात ळ  साह रुकना ,  गैंठिया, रीफलक्कस, डीप्रैशन, पिशाब दे रोगां विच वाधा।अग्गे विसथार नाल पड़ोगे कि किवे अद्धियांमौतां सिरफ दिल सबंधी रोगां करके ही हो रहियां हन।
होर देखो साडे नासतकां दी नीत ने की गुल्ल खिड़ाए ने।

पड़ायी च पंजाब अज्ज 25वें नम्बर ते

1911 दी मरदम शुमारी मुताबिक पड़ायी पक्खों पंजाब 4 - 5 नम्बर ते सी। 1951 च पंजाब पड़ायी पक्खों 7वें नम्बर ते, 1961 च 13वें नम्बर ते 1971 च 11 नम्बर, ते अज्ज लिखद्यां शरम आ  रही है, पंजाबियां दा पंजाब मरद पड़ायी पक्खों 25वें नम्बर  (Male Literacy Rate)  च ते जा रेहा है। प्यारा पंजाब एनां सूब्यां तों वी पिछे रह ग्या है:- Maharashtra, Himachal Pr. Uttarakhand, Tamilnadu, Tripura, Manipur, Gujarat, Haryana, Chhattisgarh, West Bengal, Karnataka, Madhya Pr., Sikkim, Rajasthan, Orissa । कुल्ल मिला के 16 वें नम्बर ते। भारत विच जे 25 वां थां ते चला ग्या है तां बाकी कामरेड वीर दस्स देन होर किन्नी कु कुआलिटी (गुन) पैदा करना है।
गुरदासपुर दे इक फारमेसी कालज विच असां देख्या 45% विद्यारथी पंजाबों बाहर दे हन।
ऐन एसे तरां दा तजर्रबा साडे नाल जलंधर दे इंजीनियर कालजां च होया। कहन तों भाव अज्ज पंजाब दे वधिया कोरसां दे कालजां विच पंजाबों बाहर दे विद्यारथी पड़ रहे हन।देहाती इलाक्यां दे कई इंजियरिंग कालज तां हुन फेल होन दी कगार ते वी पहुंच चुक्के हन। इथे सिरफ पंजाबो बाहर दे बच्चे ही थोवे बहुत पड़्ह रहे ने।
   16 

पिछे ट्रिब्यून अख़बार विच अंकड़े आए कि पंजाब दे टैकनीकल कालजां विच पंजाब दे पेंडू खेतर दे सिरफ 3% बच्चे ही दाखला लै पाउंदे हन। की इस तों वद्ध गुन पैदा करना साडे वीरां ने?  पंजाब दे देहाती इलाके विच क्युकि विद्यारथियां दी बहु गिणती सरकारी सकूलां तों आउदी है ते इस तबके ते कामरेड वीरां ने खूब प्रचार कीता जिस करके देहाती इलाका तां पड़ायी पक्खो बिलकुल बरबाद ही हो ग्या है। पहलां पंजाबों बाहर दा विद्यारथी पंजाब दे वधिया कालजां विच दाखला नही सी लै पाउदा हुन उलटा हो ग्या है।
आह गुरू नानक देव यूनीवरसिटी तां सिधांतक रूप च कोयी टैकनीकल नहीं है। पर इसदे वी वधिया कोरसां विच वड्डी गिणती विच बच्चे पंजाबों बाहर दे हन। असीं इह वी देख्या कि पंजाबों बाहर दे बच्च्यां नूं पंजाब सरकार वजीफे वी दे रही है।
असीं बाहरदे विद्यारथियां दे दुशमन नहीं हां। असीं कहन्ने आं साडे बच्चे क्युं नहीं अग्गे आ  पाए।
कहन तों भाव असीं गुन पैदा करन च फेल हो गए। पहलां (1985 तक) असीं गिणती विचों गुन पैदा कर लैंदे सां। हुन गिणती पक्खों वी गए ते गुन रेहा ही ना।
सो याद रक्खों मनुक्खी शकती विचों जे गुन पैदा करना तां उह मुकाबले नाल पैदा हुन्दा है।(Spirit  of Competitiveness) जिन्नां दे इक्कले इक्कले मुंडे ने उनां दी औलाद अवैसली हो जांदी है। इक्कले अकसर नलायक निकलदे हन जां लापरवाह हुन्दे हन क्युंकि उनां दी पालणां पोसना लाड प्यार नाल हुन्दी है। इस खातर सानूं मनुक्खी फितरत ते इनसानी मानसिकता समझनी पवेगी।
अगला सवाल :- वधी अबादी लई रोटी, कप्पड़ा ते मकान किथों आउणगे। पहलां ही बड़ी थुड़ है, महंगायी है।
इह कहना कि अनाज किथों आउगा, मकान, कप्पड़ा असीं मुहई्ईआ नहीं कर पाउना मूरखता दी सिख़र है। सरकारां नूं सारा पता हुन्दा है कि वद्ध अबादी नाल अनाज वद्ध पैदा हुन्दा है (question of demand and supply) मकान वद्ध बणदे हन। सिरफ असीं पंजाबी लोक भोले हां जेहड़े सरकार दे प्रापेगंडा दा शिकार बणे। हुन पड़ो वद्धी अबादी लई अनाज किथों आवेगा।
इस सबंध विच इक सिद्धा जेहा सिधांत कंम करदा है, ''लोड़ काढ दी मां हुन्दी है,भाव जरूरत पैन ते मनुक्खी दिमाग वसीले खोज लैंदी है।
उदाहरन वजों 1947 च भारत दी अबादी 32 करोड़ सी। पर उदों भुक्खे रहन वाले लोकां दा अनुपात अज्ज नालों किते ज्यादा सी। अज्ज अबादी 121 करोड़ है। भाव 121 च भुक्खे घट्ट हन ते 32 च ज्यादा।
फिर सुआल उठदै कि मन लओ किसे इलाके दी खुराक दी उपज ही वद्ध तों वद्ध लै लई गई है उस तों वद्ध उपज हो ही नहीं सकदी ते उथे की बणेगा (Saturation Point) ते मजेदार गल्ल इह है कि फिर ओथे वी इनसान काढ कढ्ढ लवेगा। उदाहरन वजों पंजाब दे दुआबे इलाके विच जिवें जमीनां थोड़ियां पै गईआं ते बहादर दुआबियां ने उस दा हल्ल लभ्भ्या। उह यूरपीन ते अमरीकन मुलकां च गए ते आपनी मेहनत सद्दका ओथे वी दुआबा पैदा कर ल्या।
पर अजे तां पंजाब च Saturation Point आया ही नहीं भाव अजे नक्कों नक्क तां भर्या ही नहीं। अजे तां बहुत गुजायश है। करोड़ तों वद्ध लोक होर समां सकदे हन, पंजाब दी धरती ते। इह अग्गे पड़ोगे, किस तर्हां ?
सो पंजाबी वीरो साडे फैलाय लई पूरी धरती खाली पई है। अबादी तां दुनियां दे चार पंज मुलकां च संघनी है बाकी मुलक तां खाली पए होए हन।
सो जरूरत अनुसार बन्दे दा दिमाग खोज कर लैंदा है अनाज दी कमी वद्ध अबादी करके नहीं हो सकदी। हां कदी कमी हुन्दी है काल पैदे हन उहदा कारन इह नही कि अबादी वध सी इस करके काल प्या।
   17 
 पंजाब च अबादी दा घणतव (Density of population) 484 बन्दे फी मुरब्बा किलोमीटर है ते कई अजेहे मुलकां हैगे ने जिन्नां दा घणतव इस तो वी किते ज्यादा है ते पंजाब नालों किते ज्यादा खुशहाल हन। फिर खुश्शी दी गल इह है कि बहुते मुलक अबादी गणतव पक्खो खाली पए होए।अबादी गणतव पक्खो दुनियां दे 240 मुलकां विचों भारत 33वे नम्बर ते है भाव 207 मुलकां दी अबादी भारत नालो घट्ट है। भाव बहुत दुनियां बेअबाद पई होयी है।  उदाहरन वजों आसटरेलिया मुलक दा घणतव सिरफ 3 बन्दे, कनेडा दा 3, कजाकिसतान दा 6, रूस दा 8, तुरकमेनिसतान दा 10 आदि। कहन तों भाव दुनिया खाली पई होयी है।


 

 

 

 

 

ਭਾਰਤ ਵਿਚ ਅਜਾਦੀ ਪਿਛੋ ਕੁੜੀਆਂ ਦਾ ਅਨੁਪਾਤ ਲਗਾਤਾਰ ਡਿਗਦਾ ਜਾ ਰਿਹਾ ਸੀ ਪਰ ਪੰਜਾਬ ‘ਚ ਲਗਾਤਾਰ ਵਧ ਰਿਹਾ ਸੀ। ਪਰ ਬਦਕਿਸਮਤੀ ਕਿ ਭਾਰਤ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਪੰਜਾਬ ਵਿਚ ਕੁੜੀਆਂ ਖਿਲਾਫ ਪ੍ਰਾਪੇਗੰਡਾ ਕੀਤਾ ਕਿ ਕਿਵੇ ਕੁੜੀ ਪੈਦਾ ਹੋਣ ਤੇ ਬੋਝ ਪੈਦਾ ਹੈ ਦਾਜ ਆਦਿ ਦਾ। ਪੰਜਾਬੀਆਂ ਫਿਰ ਧੜਾ ਧੜ ਕੁੜੀਆਂ ਕੁਖ ਵਿਚ ਮਾਰਨੀਆਂ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰ ਦਿਤੀਆਂ। ਇਸ ਗਰਾਫ ਤੋਂ ਸਪੱਸ਼ਟ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ ਕਿ ਪੰਜਾਬ ਵਿਚ ਜੋ ਹੋਇਆ ਉਹ ਸਰਕਾਰੀ ਸਾਜਿਸ਼ ਸੀ।






ਪੜਾਈਰਹੇ ਨੇ।

 
+++16+++ਈ ਹੋਈ ਹੈ।

http://www.punjabmonitor.com/2013/05/vadh-bachey-bache-punjab-part-ii.html

Share this article :

No comments:

Post a comment

 

Punjab Monitor